Founder's Desk

From the Founder’s Desk
Hey, the people of this pious world.
if you are bored by Hinduism, Islamism, Sikhism, Buddhism, Jainism, Christian-ism, Jew-ism, Shinto-ism, Confusius-ism and Taoism. This is my India, this is my Pakistan, this is my America, this is my France, this is my Canada, this is my England etc. are bored by nationalism of these countries etc. If you are bored by the partiality created by black or white color, Brahmanism produced by Brahmans, Kshatriya-ism produced by Kshatriya, Vaishya-ism produced by Vaishya and Shudra-ism produced by Shudra etc. and are bored by socialism, then why don't we all together start new life in which there should be no religion-ism, nationalism, color-ism, socialism and caste-ism No one should be superior or inferior and everyone should have equivalent status.There is only one way and that is only way of ‘’Development & Humanity’’ and if it is said then in reality the aim of life or our ancestors was only ‘’Development & Humanity’’ and the aim of our life is also only ‘’Development & Humanity’’ then why there is so much difference?Our ancestors who were conservative and orthodox related religion-ism, nationalism, color-ism, and socialism, what have they given to us, this only that they made us to kill our brothers, fought among ourselves, made us to do crime and evil upon mother and sister and they made us to pine for every morsel of grain.Then also these factors which filled poison against humanity our ancestors were also caught by them and man became demon, and they now want that we also should come under their influence and become demons. If they are not stopped and their existence is not finished then a day will come that humanity will totally vanish from this earth for always and then the meaning of living of our next generation will totally be finished. Then what is the use of living this life?If your consciousness advises you to eradicate the existence of very dangerous factors like religion-ism, nationalism, color-ism and socialism if new passion is born in you then you make ‘’Development & Humanity’’ your religion, your country and your society.Yes, development is the only way by which we can search our divine God to whom we say irrefutable rule whose existence cannot be found by any man in this world and nor they are able to solve this mysterious illusion.Yes, this is the only path by which the unity of the world will be established and the feeling of welfare of world will be generated and our life will be salvation.Now you brood in your conscience and after brooding if you find that the path of ‘’Development & Humanity’’ is correct then from today only we altogether should keep the foundation of new life, the veins in which poison is flowing against humanity we should make flow nectar in the veins and start a new life.

संस्थापक की कलम से
हे, इस पावन विश्वम्भरा के प्रियजनों !
अगर आप लोग हिन्दुवाद, इस्लामवाद, सिक्खवाद, बुद्धवाद, जैनवाद, ईसाईवाद, यहूदीवाद, शिंतोवाद, कनफ्यूशियसवाद एंव ताओवाद इत्यादि के धर्मवाद से ऊब गए हों, ये मेरा भारत, ये मेरा पाकिस्तान, ये मेरा अमेरिका, ये मेरा फ़्रांस, ये मेरा कनाडा, ये मेरा इंग्लॅण्ड आदि राष्ट्रों के सीमावाद से ऊब गए हों, ये काला, ये गोरा आदि रंग के रंगभेद से ऊब गए हों, ब्राह्मण समाज से उत्पन्न ब्राह्मणवाद, क्षत्रिय समाज से उत्पन्न क्षत्रियवाद, वैश्य समाज से उत्पन्न वैश्यवाद एंव शूद्र समाज से उत्पन्न शूद्रवाद आदि के समाजवाद व जातिवाद से ऊब गए हों, तो क्यों न अब हम सब मिलकर एक नए जीवन की शुरुवात करें, जिसमे न कोई धर्मवाद हो, न कोई रंगवाद हो, न कोई जातिवाद से उत्पन्न समाजवाद हो, न कोई जातिवाद हो, न कोई छोटा हो न कोई बड़ा हो सभी को बराबरी का दर्ज़ा हो ।वह रास्ता सिर्फ एक ही है और वह है सिर्फ एक ''विकास व मानवतावाद'' का रास्ता और कहा जाए तो वास्तव में हमारे पूर्वजों के जीवन का मुख्य ध्येय सिर्फ ''विकास व मानवता'' ही तो था और हमारे जीवन का मुख्य ध्येय भी सिर्फ ''विकास व मानवता'' ही तो है फिर आपस में इतनी भिन्नता क्यों ?आखिर इन धर्मवाद, सीमावाद, रंगवाद व जातिवाद से जुड़े हमारे रुढ़िवादी व कट्टरवादी पूर्वजों ने हमें दिया ही क्या है? यही न की हमसे भाई-भाई का खून करवाया, आपस लडवाया, माँ-बहनों पर जुल्म व भयंकर अत्याचार करवाया एवं हमें अनाज के एक-एक दाने के लिए तरसाया । फिर भी अगर मानवता के खिलाफ जहर भरने वाले इन कारकों जिनकी चपेट में हमारे पूर्वज आ गये और मानव को दानव बना दिया, अब हमें भी अपनी चपेट में लेकर मानव से दानव बना देना चाहते हैं को नही रोका गया व इनके अस्तित्व को समाप्त नहीं किया गया तो एक दिन ऐसा आएगा कि इस दुनिया से हमेशा-हमेशा के लिए मानवता का विनाश हो जायेगा और फिर हमारी आने वाली पीढ़ी का जीवन जीने का ओचित्य ही समाप्त हो जायेगा । फिर ऐसा जीवन जीने का क्या फायदा ?अगर आपकी अन्तर्रात्मा मानवता के खिलाफ भयंकर विनाशकारी कारक, धर्मवाद, सीमावाद, रंगवाद व जातिवाद आदि के अस्तित्व को बदलने की सलाह देती हो, आपके अंदर एक नया जूनून पैदा होता हो तो आप ''विकास व मानवतावाद'' को ही अपना धर्म, अपना राष्ट्र, अपना समाज एवं अपनी जाति बनाइये और विकास कर्म से होता है ।मैं जानता हूँ कि यह ''विकास व मानवतावाद'' का रास्ता बहुत कठिन है मगर यह भी अकाट्य सत्य है कि इन्सान को जन्म सिर्फ एक ही बार मिलता है इसलिए जो करना है हमें इसी अल्पायु में करना है । इस ''विकास व मानवतावाद'' के पथ को छोड़कर आज यह सारा विश्व धर्मवाद, सीमावाद, जातिवाद जैसे मानव विनाशी काटों से भरे रास्ते पर चल रहा है जिस पर कभी भी एकता के फूल उगने की संभावना नहीं है । और यह सारा विश्व एक-दुसरे से नफरत करता नजर आ रहा है । ऐसी नफरत भरी दुनिया में मैं अकेला ही सही मगर मुझे इस पथ पर एकता के फूल खिलने की सम्भावना तो है और देखना ये फूल खिलना शुरू होंगे तो अपनी खुशबू से सबको महका देंगे । फिर सभी के आँगन में एकता के फूल खिलेंगे जो समूचे वातावरण को पवित्र बना देंगे एवं जीवन को प्रेम व आनंद से भर देंगे ।हाँ और ''विकास व मानवतावाद'' ही तो एक मात्र एक ऐसा रास्ता है जिससे हम अपने 'परम पिता परमेश्वर' को भी खोज सकेंगे, जिसे हम 'निराकार सत्ता' कहते हैं जिसके अस्तित्व को संसार का कोई भी मानव आज तक खोज नहीं पाया और न ही इसके रहस्यमयी मायाजाल को सुलझा पाया है !

Copyright © 2017-18 Human Welfare Evolutionary Organization All Rights Reserved